Wednesday, October 21, 2020
Home Nation News ब्रह्मोस पर DRDO चीफ ने कहा- मिसाइल के परीक्षण का उद्देश्य स्वदेशी...

ब्रह्मोस पर DRDO चीफ ने कहा- मिसाइल के परीक्षण का उद्देश्य स्वदेशी सामग्री को बढ़ाना

भारत ने हाल ही में ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण किया था, जिसकी मारक क्षमता 400 किलोमीटर से ज्यादा है. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने इस मिसाइल का प्रक्षेपण बालासोर के चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र (आईटीआर) से किया था. अब डीआरडीओ प्रमुख जी सतीश रेड्डी ने ब्रह्मोस के अलावा अन्य मिसाइलों के परीक्षण पर जानकारी दी.

डीआरडीओ प्रमुख जी सतीश रेड्डी ने कहा, “ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है. परीक्षण मुख्य रूप से मिसाइल में स्वदेशी सामग्री को बढ़ाने के लिए किया गया है. ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली में शामिल कई स्वदेशी प्रणालियों का विस्तारित रेंज के साथ परीक्षण किया गया है.”

उन्होंने आगे कहा, “यह एक सफल मिशन था. अब सम्मिलित की गई अधिकांश स्वदेशी प्रणालियों ने पूर्ण संतुष्टि के साथ काम करना शुरू कर दिया है और स्वदेशी सामग्री अब ब्रह्मोस में बढ़ गई है.”

It was a successful mission. Most of the indigenous systems, incorporated now, have functioned to full satisfaction & the indigenous content has gone up in BrahMos now: DRDO Chief G Satheesh Reddy on test-firing of extended range BrahMos supersonic cruise missile on September 30 https://t.co/Mu1Ageny17

— ANI (@ANI) October 14, 2020

5 अक्टूबर को टॉरपीडो के सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज की सफल परीक्षण पर DRDO प्रमुख ने कहा, “यह प्रणाली की पूरी तरह से सिद्ध होने और सशस्त्र बलों में शामिल होने के बाद नौसेना की क्षमता को बढ़ाएगी.”

7 सितंबर को हाईपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेशन व्हीकल के उड़ान परीक्षण पर उन्होंने कहा, “यह पहली बार है जब डीआरडीओ ने अच्छी मात्रा में इस तरह का प्रयोग किया है और इसने सफलतापूर्वक काम किया है. इसने हमारे लिए इन तकनीकों पर लंबे समय तक काम करने का एक मार्ग प्रशस्त किया.” उन्होंने कहा, “इन सभी चीजों पर काम करने और एक संपूर्ण मिसाइल प्रणाली तैयार करने में हमें लगभग 4-5 साल लगेंगे.”

It will take probably about 4-5 years for us to work on all these things and realise a complete missile system, working for some good amount of range: DRDO Chief G Satheesh Reddy on flight test of Hypersonic Technology Demonstration Vehicle on Sept 7 https://t.co/j3Tc2XPMcN

— ANI (@ANI) October 14, 2020

9 अक्टूबर को रुद्रम एंटी-रेडिएशन मिसाइल के सफल परीक्षण पर उन्होंने कहा, “यह एक विमान से प्रक्षेपित होने वाला विकिरण-रोधी मिसाइल है. यह किसी भी उत्सर्जक तत्व का पता लगाने में सक्षम होगा। आप उस उत्सर्जक तत्वों को लॉक कर सकेंगे और उन पर हमला कर सकेंगे.” उन्होंने कहा, “हमें विभिन्न परिस्थितियों में पूर्ण प्रणाली प्रौद्योगिकियों को साबित करने के लिए कुछ और परीक्षण करने की आवश्यकता है. एक बार हो जाने के बाद यह वायु सेना में जाएगा और दुश्मनों के उत्सर्जक तत्वों पर हमला करने में वायु सेना को मजबूत करेगा.”

We need to do a couple of more trials to prove the complete system technologies, under various conditions. Once done, it goes into Air Force & it’ll strengthen Air Force in attacking the enemies’ emitting elements: DRDO Chief G Satheesh Reddy on ‘Rudram’ Anti-Radiation Missile https://t.co/4AOlcgKGHh

— ANI (@ANI) October 14, 2020

DRDO प्रमुख ने 12 अक्टूबर को निर्भय सब-सोनिक क्रूज मिसाइल के उड़ान परीक्षण पर कहा, “निर्भय का पहले भी परीक्षण किया जा चुका है और उसने अपने सभी परीक्षणों को सफलतापूर्वक पूरा किया है. हम केवल इसमें स्वदेशी सामग्री बढ़ाना चाहते थे. उसके बाद इसमें कुछ खामियां आ गई, हम इसे देख रहे हैं.”

Nirbhay has been flight-tested earlier and has successfully completed all its development trials. We only wanted to increase indigenous content in it. After that some snag had come, we are looking into it: DRDO Chief on flight test of Nirbhay sub-sonic cruise Missile on Oct 12 pic.twitter.com/My9jcTIqrc

— ANI (@ANI) October 14, 2020

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

उत्तराखण्ड के उत्पादों का अम्ब्रेला ब्रांड बनाया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखण्ड के उत्पादों के लिए एक अम्ब्रेला ब्रांड बनाए जाने के निर्देश दिए हैं। सभी ग्रोथ सेंटर, बिक्री...

कोरोना काल में भी बढ़ रही चीन की इकोनॉमी, सितंबर तिमाही में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज

 चीन की अर्थव्यवस्था ने सितंबर में समाप्त तिमाही में इससे पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की...

इक्फाई विश्वविद्यालय के वीसी डॉ मुद्दु विनय को मिली डॉक्टरेट की मानद उपाधि

इक्फाई विश्वविद्यालय देहरादून के कुलपति डॉ मुद्दु विनय को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उनके सराहनीय योगदान के लिए यूनाइटेड नेशन रेस्क्यू सर्विस द्वारा...

मंगल पर अपने नागरिक को ले जाने वाला पहला देश बनेगा अमेरिका : ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका मंगल ग्रह पर अपने नागरिक को ले जाने वाला पहला देश बनेगा और पहली बार...

Recent Comments