इस भारतीय क्रिकेटर को आस्ट्रेलियाई दर्शक दे रहे थे गालियां, मां के 1 फोन ने दिलाई ताकत

0
1500

टीम इंडिया ने 2-1 से टेस्ट सीरीज जीतकर इतिहास रच दिया है। इस जीत के कई हीरों हैं। इनमें अजिंक्य रहाणे, ऋषभ पंत, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा और मोहम्मद सिराज जैसे नाम शामिल हैं। इन सब खिलाडि़यों ने भारतीय क्रिकेट प्रेमियों के चेहरे पर आज खुशी ला दी। अगर इन खिलाड़ियों की बात करें तो मोहम्मद सिराज का योगदान और बलिदान काबिलेतारीफ है। मोहम्मद सिराज ही वो खिलाड़ी है जिन पर आस्ट्रेलिया में टेस्ट मैचों के दाैरान दर्शकों ने नस्लीय आपत्तिजनक टिप्पणियां कीं। इन टिप्पणियों के बावजूद सिराज ने भारतीय टीम की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

ब्रिस्बेन टेस्ट के चौथे दिन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों की कमर तोड़ने वाले इंडियन टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने मैच के बाद अपने पिता को याद किया। उन्होंने इस शानदार प्रदर्शन का श्रेय अपनी मां को भी दिया। मैच के चौथे दिन पांच विकेट अपने नाम करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मोहम्मद सिराज ने कहा, “निश्चित रूप से मेरे इस प्रदर्शन का श्रेय मेरी मां को भी जाता है. उन्होंने कहा, “पिता के निधन के बाद मेरी मां ने मुझे अच्छे प्रदर्शन के लिए लगातार प्रेरित किया।” उन्होंने अपने पिता को याद करते हुए कहा, “आज वो जिंदा होते तो मुझपर गर्व करते, उनकी दुआओं की वजह से ही आज अपना बेस्ट परफॉर्मेंस दे पाया हूं। सिराज ने मैच के बाद कहा, “मैं काफी लकी हूं कि मैंने पांच विकेट अपने नाम किए।। मैच के बाद मैंने अपने घर पर बात की, अपनी मां से बात की. उन्होंने मुझे आगे भी बेहतर करने के लिए प्रेरित किया।” सिराज ने अपनी मां से हुई बातचीत के बारे में आगे बताया, “मां से बात कर के मुझे मानसिक रूप से बहुत मजबूती मिली है।” आज पूरा हिंदुस्तान सिराज को सिर आंखों पर बिठाकर उन आस्ट्रेलियाई दर्शकों को जवाब दे रहा है जिन्होंने सिराज पर आपत्तिजनक टिप्पणियां कीं।

पिता को खोने के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट से उन्होंने डेब्यू किया। इस मेलबर्न टेस्ट में ही उन्होंने 5 विकेट लिए। इसके बाद तीसरे टेस्ट में उन्हें 2 विकेट मिले। मैच के तीसरे और चौथे दिन सिराज को ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों के अभद्र व्यवहार और नस्लीय टिप्पणियों का सामना करना पड़ा। ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों ने उनके खिलाफ मंकी, डॉग और ग्रब (कीड़ा) जैसे घटिया शब्दों का इस्तेमाल किया, लेकिन सिराज टूटे नहीं और मजबूती से सामना किया। इस बदतमीजी का जवाब उन्होंने ब्रिस्बेन टेस्ट की पहली पारी में 1 और दूसरी पारी में 5 विकेट लेकर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here