अगर रहना है हेल्दी तो कुकिंग ऑयल खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

0
2866

इन दिनों हेल्‍थ डिजीज की समस्‍या घर घर में देखने को मिल रही है. इसकी वजह लाइफस्‍टाइल (Lifestyle) में आई गिरावट के साथ हमारे खान पान में आए बदलाव भी हैं. अगर हम अपने खाने पीने और उनके कुकिंग मेथड में कुछ चेंज करें तो हम अपने हार्ट के साथ साथ पूरे शरीर को लंबे समय तक हेल्‍दी रख सकते हैं. इन दिनों बाजार में इतने तरह के कुकिंग ऑयल हैं (Cooking Oil) कि हमें समझ में नहीं आता कि कौन सा तेल हमारे लिए बेहतर होगा और कौन सा खराब. ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि इन्‍हें खरीदने से पहले हमें अपने शरीर की जरूरतों और बाजार के इन तमाम ऑयल्‍स की अच्‍छी बुरी बातों की सही जानकारी पता हो. तो आइए जानते हैं कि कुकिंग ऑयल घर लाने से पहले किन बातों को ध्‍यान में रखना जरूरी है.

ओमेगा 3 और 6 का हो अच्‍छा कॉम्बिनेशन
कुकिंग ऑयल (Cooking Oil) खरीदते समय यह जरूर देखें कि उसमें ओमेगा 3 (Omega 3) और ओमेगा 6 (Omega 6) का रेशियो कैसा है. खास तौर पर अगर आप वेजिटेरियन हैं. आपको उन ऑयल को प्रयोग में लाना चाहिए जिसमें ओमेगा 3 हो. बता दें कि ओमेगा 3 की मात्रा मछली में सबसे ज्‍यादा होती है. जबकि राजमा, अलसी और अखरोट आदि भी इसका अच्‍छा सोर्स हैं. वहीं ओमेगा 6 लगभग हर ग्रेन जैसे दाल और तेल में मिल ही जाता है. ऐसे में अगर हम ओमेगा 3 के सोर्स के रूप में सरसों, कनोला, ऑलिव और सोयाबीन के तेल को प्रयोग करें तो यह हमारे सेहत के लिए अच्‍छा होगा. हाई अनसेचुरेटेड फैटी एसिड वाले कुकिंग ऑयल में भी सेहत से जुड़े कई फायदे हैं. यह आसानी से डायजेस्‍ट हो जाते हैं और स्‍वाद में भी अच्‍छे होते हैं.

बाजार से जब भी कुकिंग ऑयल खरीदें यह जरूर चेक करें कि उसमें ट्रांस फैट की मात्रा लिखी गई हो. यदि नहीं दी गई हो तो ना ही खरीदें. हमेशा यह चेक करें कि तेल की बोतल पर जीरो ट्रांस फैट लिखा हो. इसके अलावा पैकेट पर नॉन हाइड्रोजिनेटिड और नॉन पीएचवीओ (PHVO) भी लिखा हो. यह भी देखें कि गामा ऑरिजनअल की मात्रा दी गई है या नहीं. यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल को घटाता और और गुड कॉलेस्‍ट्रॉल को बढाने का काम करता है.

ऑफर के चक्‍कर में ना रहें
कई बार जिन प्रोडक्‍ट का एक्‍सपायरी डेट पास आ जाता है उन्‍हें ऑफर में कंपनी बेच लेती है. ऐसे में खरीदते समय यह जरूर चेक करें कि तेल की बोतल एक साल से ज्‍यादा पुरानी तो नहीं. एक्‍सपायरी डेट पास हो तो बिलकुल भी ना खरीदें.

डॉक्‍टर से जरूर लें सलाह
यदि आपके परिवार में किसी को सेहत से जुड़ी समस्‍या है या आप अपने डॉक्‍टर से इस विषय पर सलाह ले सकते हैं. यदि आप वेट लूज करने की सोच रहे हैं तो न्‍यूट्रीशनलिस्‍ट से इस विषय पर बात कर ही आप बाजार में ऑयल खरीदें.

सर्दियों के मौसम (Winter season) में बालों की समस्‍या हर किसी को परेशान करती है. ठंढ़ की वजह से इनका ध्‍यान रखना और भी परेशानी भरा लगता है. आलस की वजह से हम घर पर बालों में किसी भी तरह के पैक नहीं लगाते, पार्लर में जाकर ट्रीटमेंट देना तो दूर की ही बात है. ऐसे में एक ऐसा तरीका है जिससे आप अपने बालों का विंटर में बहुत ही आसानी से केयर कर पाएंगी.

दरअसल नारियल पानी (Coconut Water) विंटर सीजन में हमारे बालों के लिए बहुत ही आसान और असरदार ट्रीटमेंट (Treatment) साबित हो सकता है. हेयर एक्‍सपर्ट्स अब तक नारियल के तेल के बेहतरीन फायदों को बताते रहे हैं, लेकिन पाया गया है कि नारियल का पानी नारियल तेल से भी ज्‍यादा इफेक्टिव है. साथ ही इन्‍हें अप्‍लाई करना भी आसान है. आइए जानते हैं इसके फायदे.

ऐसे करें बालों में अप्‍लाई
नारियल के पानी को कटोरी में छानकर रख लें. 4 से 5 चम्मच नारियल पानी में एक चम्‍मच गुलाब जल मिलाएं. इस मिश्रण को उंगलियों या कॉटन बॉल की मदद से बालों की जड़ों में तेल की तरह अप्‍लाई करते जाएं. हल्‍के हाथों से पूरे स्‍कैल्‍प पर अप्‍लाई करें. बालों में भी लगाएं. हल्का मसाज करने से यह पानी बालों की जड़ों में आसानी से एब्‍जॉर्ब हो जाएगा. यह मिश्रण तेल की तरह चिपचिपा नहीं होता और हेयर मास्‍क जैसा हेवी भी नहीं होता जिस वजह से बाल उलझते नहीं. सिर में लगाने के 1 घंटे बाद शैंपू कर लें. आप रात को इसे बालों में लगाकर छोड़ भी सकते हैं.

बालों को ऐसे पहुंचाता है लाभ
दरअसल, हेयर ऑइल की तुलना में नारियल पानी बहुत लाइट होता है. आसानी से एब्‍जॉर्ब होने की वजह से इससे सिर की त्वचा नर्म और मुलायम हो जाती है. इसमें मिनरल्स, विटमिन्स, आयरन, पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे तत्व भरपूर मात्रा में मिलते हैं जो शरीर के साथ बालों की सेहत के लिए भी बहुत ही जरूरी हैं. दरअसल नारियल पानी में पोटैशियम की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है जो बालों की जड़ों में ऑक्सीजन सप्‍लाई बढ़ा देता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here