भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम ने प्रत्येक असफलता से सीखा: डॉ. शिवन

0
4142
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष डॉ. के शिवन ने शनिवार को कहा कि भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम ने अपनी प्रत्येक असफलता से सीखा है और अपनी कार्य प्रणाली में लगातार सुधार किया है। डॉ. शिवन ने काट्टनकुलाथुर में एसआरएम विश्वविद्यालय के 16वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने छात्रों से कहा कि संपूर्ण असफलता से बचने के लिए लगातार अपने द्वारा लिए गए जोखिमों का मूल्यांकन करना चाहिए।
इसरो अध्यक्ष ने कहा – सबसे महत्वपूर्ण है कि हमें अपने द्वारा लिए गए जोखिमों का मूल्यांकन करना चाहिए। जब आप अपने जोखिमों का मूल्यांकन करते हैं तब आप संपूर्ण असफलता से बच सकते हैं। आप असफल हो सकते हैं, लेकिन प्रत्येक असफलता आपको कुछ बेहतर सिखाती है। उन्होंने कहा – ‘मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम की नींव ऐसी असफलताओं के बाद बनी है जिसमें प्रत्येक नाकामयाबी ने हमें अपनी प्रणाली में सुधार करने का अवसर प्रदान किया है।’’  डॉ. शिवन ने कहा, ‘‘दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज है नवाचार। नवाचार केवल कागज पर लिखा जाने वाला एक बेहतर विचार नहीं हो सकता बल्कि मायने यह रखता है कि आप नवाचार को कैसे लागू करते हैं। नवाचार का विचार असफलता के खतरों को उठाने के बाद ही मिलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here