मैं तो कुछ लोगों की साजिश का शिकार हो गया : शिवपाल यादव

0
3943

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने बुधवार को इशारों में कहा कि उन्होंने किसी के साथ साजिश नहीं की है लेकिन उन्हें लोगों ने साजिशों से शिकार जरूर बनाया है। किसान मसीहा एवं पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर आयोजित कवि सम्मेलन से पूर्व अपने संबोधन में शिवपाल अपने संबोधन में कई ऐसी बातें कहीं जिससे इस बात का संकेत मिलता है कि वह कहीं ना कहीं साजिशों का जिक्र कर रहे हैं लेकिन यह साजिश किसने किसके साथ में की है। उन्होने यह स्पष्ट नहीं किया।

उन्होने कहा ‘‘आज के समय में बहुत से ऐसे लोग हैं, दुनिया में जो अहंकार में डूबे हुए हैं और बहुत लोग तिकड़म लगने लगे रहते है,कुछ लोग ऐसे भी हैं जो साजिश भी रचते रहे हैं । हमारे पास तो ऐसा कुछ है नहीं हमने तो कभी साजिश की नही नहीं हमने तो सिर्फ अपनापन दिखाया। हमेशा अपनेपन की वजह से हमने तो हमेशा सच्चाई को पहचाना बुजुर्गों का सम्मान किया है।’’

शिवपाल ने कवि के अंदाज में कहा ‘‘ किसी के मुस्कुराहटों पे वो निशान किसी के वास्ते जो होते थे दिल मे प्यार किसी का दर्द मिल सके तो दे उधार जीना इसी का नाम जीना इसी का नाम…’’। प्रसपा मुखिया ने कहा कि चौधरी चरण सिंह इस देश के किसानों के असली मसीहा थे और उन्होंने देश के किसानों के लिये जो किया वह कोई दूसरा नहीं कर सकता है। उन्हें सच्ची श्रद्धाजंलि यही होगी कि केंद्र एवं राज्य की सरकारें किसानों के साथ हमदर्दी दिखाकर अन्नदाताओं की मांगों को पूरा करें।

यादव ने जमकर केंद्र और राज्य सरकार पर हमला बोला और पूरे भाषण के दौरान किसानों का जिक्र किया और आरोप लगाया कि अपनी हठधर्मिता के आगे सरकार किसानों की बात नहीं सुन रही है। उन्होंने कहा कि भयंकर सर्दी के इस दौर में किसानों की अनदेखी केंद्र और राज्य सरकार पर भारी पड़ेगी। उन्होने कहा कि उनकी पार्टी ने निर्णय लिया है कि चौधरी साहब के जन्मदिन के बाद किसानों की समस्याओं को सुनने के लिए गांव गांव जायेगे और आगे आने वाले 2022 का निर्णय भी लेना होगा। चौधरी चरण सिंह पीजी कालेज हैवरा में पूर्व प्रधानमंत्री चैधरी चरण सिंह के जन्म दिवस पर अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने दीप प्रज्वलित करके कवि सम्मेलन का शुभारंभ किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here