सीने में नहीं बल्कि बैग में धड़कता है इस महिला का दिल, जीने का जज्बा ऐसा कि जानकर रह जाएंगे दंग

0
575

जिंदा रहने के लिए दिल का धड़कना जरूरी है। बिना दिल के जीना संभव नहीं है लेकिन हम आपसे कहे कि बिना दिल के भी जिन्दा रहा जा सकता है तो आप क्या कहेंगे? जी हां, आपको जानकर यकीन नहीं होगा लेकिन आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जो बिना दिल के रहती हैं। दरअसल, हम बात कर रहे हैं सलवा हुसैन की जो बिना दिल की महिला है। वह एक ऐसी महिला हैं जो अपने कृत्रिम दिल को बैग में रखकर जी रहीं हैं।

selwa hussain british women living with artificial heart heart pumps  outside body seeking for heart donar world news hindi pwn | सल्वा हुसैन एक  ऐसी महिला जिसका दिल शरीर के बाहर धड़कता

एक ब्रिटिश अखबार के अनुसार, ’39 साल की सलवा हुसैन एकमात्र ऐसी व्यक्ति है जो ब्रिटेन में इस तरह से रहती है।’ सलवा हुसैन की शादी हो चुकी है और उनके दो बच्चे भी हैं। वह हमेशा एक सामान्य जीवन जीने की कोशिश करती है, लेकिन उनके साथ एक चुनौती भी रहती है। सलवा का दिल जिस बैग में रखा है, वह उसे हमेशा अपने पास रखती है। उनके सीने में पावर प्लास्टिक चेम्बर्स लगाए गए हैं। इनसे 2 पाईप बाहर निकलते हैं। यह पंप बैटरियों के ज़रिए चलने वाली एक बिजली के मोटर से चलता है और उन चेम्बर्स को हवा देता है। इस हवा के द्वारा चेम्बर्स दिल की तरह काम करते और पूरे शरीर को खून देते हैं, इनमे चेम्बर सलवा के सीने के अंदर है जबकि पंप, मोटर और बैटरियां बाहर हैं। यह तीनों चीजें सलवा अपने बैग में साथ रखती हैं।

 

सलवा हुसैन के पति अल हमेशा ही इस डर से घिरे रहते हैं कि कहीं बैटरी अचानक काम करना बंद ना कर दे क्योंकि उनके पास नई बैटरी लगाने के लिए केवल 90 सेकंड का समय होता है। वैसे इतनी बड़ी समस्या के साथ भी सलवा हुसैन खुश है और हमेशा मुस्कुराती रहती हैं। हम सभी के जीवन में कई तरह की समस्याएं आती हैं और हम दुःखी हो जाते हैं। कई बार लोग छोटी-छोटी बातों पर अपनी जिंदगी खत्म कर लेते हैं। ऐसे सभी लोगों को सलवा हुसैन से प्रेरणा लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here