पंजाब में कोरोना के बढ़ते मामलों से निपटने के लिये नये आदेश जारी

0
72
पंजाब में बढ़ते कोरोना के मामलों के मद्देनजर विवाह तथा पार्टियों में एक जनवरी तक इंडोर सौ लोग और बाहर ढाई सौ तक इकट्ठे होने , सभी शहरों तथा कस्बों में रात का कर्फ्यू बढ़ाने के आदेश दिये गये हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमंिरदर सिंह ने कोविड प्रतिबंधों का बड़े स्तर पर उल्लंघन करने की शिकायतों के बीच ये आदेश जारी किये हैं। कोरोना प्रोटोकाल का उल्लंघन करने की वजह कोरोना के मामलों तथा मौत के आंकडों में वृद्धि हुई है। राज्य में एक जनवरी तक इन्डोर और आउटडोर लोगों की संख्या क्रमवार 100 और 250 तक रखने और सभी शहरों और कस्बों में रात का कर्फ्यू एक जनवरी तक बढ़ाने के भी आदेश जारी किये हैं।
कैप्टन सिंह ने पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता को कहा है कि मैरिज पैलेसों और अन्य स्थानों पर बन्दिशें सख्ती से लागू करने और उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाया जाये।  राज्य में मृत्यु दर में वृद्धि को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने कर्फ्यू रात 10 बजे से प्रात:काल 5 बजे तक बढ़ाने को कहा है । इससे पहले रात का कर्फ्यू एक दिसंबर से 15 दिसंबर तक लगाया गया था। कोविड का जायजा लेने के लिए उच्च स्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री ने सह-रोगों से पीड़ित 70 साल से अधिक उम्र के पाजिटिव मरीजों के लिए घरेलू एकांतवास ख़त्म करने को कहा है ।
वर्चुअल बैठक के दौरान स्वास्थ्य सचिव हुसन लाल ने बताया कि बड़ी संख्या में कोविड मौतें घरेलू एकांतवास मामलों में सामने आई हैं। कैप्टन सिंह ने सभी प्राईवेट अस्पतालों की जांच के आदेश दिए हैं जिससे तीन स्तर के उचित बुनियादी ढांचे और मानव संसाधन वाले अस्पतालों को ही कोविड मरीज की भर्ती की अनुमति हो । ऐसी सुविधाओं की कमी वाले अस्पतालों को मरीज अन्य अस्पतालों में रैफर कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि बेशक पिछले कुछ सप्ताह में पाजिटिव मामले घटे हैं लेकिन मृत्यु दर बढ़ना चिंता का विषय है। उन्होंने  मास्क पहनने और सामाजिक दूरी समेत कोविड के सुरक्षा उपायों की सख्ती से पालना को यकीनी बनाने के पुलिस प्रमुख को निर्देश दिये हैं।
उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को कहा कि आर.टी.पी.सी.आर. सैंपलिंग/टेसिं्टग दर प्रतिदिन 30 हजार की सीमा बरकरार रखी जाये तथा संभावित तौर पर कोरोना फैलाने वालों को शामिल करने के लिए लक्षित सैंपलिंग पर बल दिया । उन्होंने कहा कि जिलों को ‘इतिहास’ पोर्टल का पूरा प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहन देना चाहिए, जिससे संभावित हॉटस्पॉट (प्रभावित स्थानों) की पहचान करने और वहां उनकी सैपलिंग को केंद्रित किया जा सके।
उन्होंने कंटेनमैंट और माईक्रो-कंटेनमैंट जोनों में टेसिं्टग बढ़ाने और 100 प्रतिशत सैपलिंग को यकीनी बनाने की जरूरत पर जोर दिया। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग से दिल्ली में कोरोना के मामलों की बढ़ती संख्या को देखते हुये दिल्ली से लौटने वाले किसानों के स्वास्थ्य की जांच करने को कहा । स्वास्थ्य सचिव हुसन लाल ने बताया कि अभी तक राज्य में 35 लाख नमूनों की जांच की जा चुकी है जिनमें से डेढ़ लाख नमूने पॉजिटिव पाए गए हैं। पंजाब में दूसरी लहर धीमी ही है लेकिन स्वास्थ्य विभाग किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here