1.5 अरब कोरोना वैक्सीन खरीदने के लिए भारत ने की एडवांस बुकिंग

0
11

 पूरे विश्व में फैले कोरोना वायरस को लेकर हर देश अपनी वैक्सीन तैयार करने के दावे कर रहा है। भारत समेत दुनिया के कई देशों में जारी कोरोना वैक्सीन रिसर्च अपने अंतिम चरण में है। कई कंपनियों ने ट्रायल में अच्छे परिणाम को देखते हुए बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू कर दिया है तो बड़े देशों के बीच इनकी खरीद और सौदों को लेकर होड़ मच गई है। ऐसे में भारत ने भी 150 करोड़ से अधिक डोज खरीद के लिए एडवांस बुकिंग करा दी है।

Coronavirus in India: How the Covid-19 pandemic affects India

एक रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 वैक्सीन डोज खरीद प्रतिबद्धता के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है। भारत से पहले अमेरिका और यूरोपीय यूनियन का नंबर है। ये रिपोर्ट ड्यूक यूनिवर्सिटी के लॉन्च और स्केल स्पीडोमीटर इनिशिटिव पर आधारित है, जो निम्न आय वर्ग वाले देशों में हेल्थ इनोवेशन की पहुंच में बाधक बनने वाले वजहों का अध्ययन कर रहा है। ‘लॉन्च एंड स्केल स्पीडोमीटर इनिशिएटिव’ के मुताबिक, ‘कोविड-19 वैक्सीन अडवांस मार्केट कमिटमेंट्स’ के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है और इससे आगे अमेरिका और ईयू ही हैं।

भारत 1.5 अरब से अधिक डोज खरीदने की पुष्टि कर चुका है, जोकि यूरोपीय यूनियन की 1.2 अरब डोज और अमेरिका की 1 अरब डोज से अधिक है, लेकिन अमेरिका और यूरोपीय यूनियन अपनी संभावित खुराक खरीद के कारण आगे हैं। अमेरिका ने 1.5 अरब से अधिक संभावित डोज खरीद के लिए हस्ताक्षर किए हैं, वहीं यूरोपीय यूनियन ने 76 करोड़ से अधिक संभावित डोज खरीद के लिए हस्ताक्षर किए हैं। अमेरिका 1.5 अरब संभावित डोज खरीद और 1 अरब डोज की बुकिंग के साथ करीब 2.6 अरब डोज के लिए हस्ताक्षर कर चुका है।
भारत भी पहले से ही उन लोगों की प्राथमिकता सूची तैयार करने में जुटा है, जिन्हें पहले टीका लगाया जाएगा। एक बार पूरी तरह प्रभावी वैक्सीन के आ जाने के बाद अधिकतर आबादी के समयबद्ध तरीके से टीकाकरण के लिए एक राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here