Saturday , 24 August 2019

ट्रांसजेंडर व्यक्ति के साथ भेदभाव है कानूनी अपराध


मंथन न्यूज़ नेटवर्क : ट्रांसजेंडर व्यक्ति को अन्य नागरिकों के समान ही भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत गरीमापूर्ण जीवन व निजी प्राईवेसी का अधिकार है। शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य सेवा जैसे क्षेत्रों में ट्रांसजेंडर व्यक्तियों से भेदभाव प्रतिबंधित है। ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को सार्वजनिक सुविधाओं का प्रयोग करने से रोकना, उनका शारीरिक और यौन उत्पीड़न करना, सामाजिक लांछन आदि जुर्म है। किसी सरकारी और निजी प्रतिष्ठान द्वारा किसी ट्रांसजेंडर व्यक्ति के साथ रोजगार संबंधी मामलों में भेदभाव करना प्रतिबंधित है। ट्रांसजेंडर बच्चे को अभिभावकों व परिवार से अलग नहीं किया जा सकता है।