Friday , 12 January 2018

न्यायपालिका के आत्ममंथन का वक्त

विनय तिवारी ( अधिवक्ता )

सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ न्यायधीशों ने आज जिस प्रकार मीडिया के सामने न्याय के  सबसे बड़े  मंदिर की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाये है उसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया. भारतीय लोकतंत्र के इतिहास की यह पहली घटना है जिसने भारतीय न्यायपालिका के स्याह पक्ष को उजागर किया है. भारतीय न्यायपालिका को इससे सबक लेते हुए अपने अन्दर झांकना चाहिए और अपने अन्दर व्याप्त खामियों को दूर करना चाहिए ताकि जनता का विश्वास न्यायपालिका में पहले की ही तरह बरक़रार रहे.