Saturday , 2 May 2020

इमरान खान का कबूलनामा : आतंकियों का शरणगाह है पाकिस्तान

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान अमेरिका के दौरे पर थे। उन्होंने यूएस लॉ मेकर के सामने कहा कि उनके देश में 40 आतंकी संगठन अपनी गतिविधियों को आगे बढ़ा रहे हैं। उनका यह बयान पाकिस्तान के पहले के बयानों से अलग है। इमरान खान ने कहा कि हम अमेरिका के साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। पाकिस्तान का 9/11 हमले से कोई लेना देना नहीं है। अल कायदा का पूरा बेस अफगानिस्तान में था। पाकिस्तान की जमीन पर तालिबान से जुड़ा हुआ एक भी संगठन नहीं है। लेकिन उनका देश आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका के साथ रहा।

इमरान खान ने कहा कि दुर्भाग्य से जब आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई अलग दिशा में गई तो अमेरिका के साथ रिश्तों पर असर पड़ा। हम लोग अमेरिका को जमीनी सच्चाई बताने में नाकाम रहे। ऐसे हालात के लिए कहीं न कहीं हम वजह इसलिए भी बने की हमारी पिछली सरकारों का नियंत्रण नहीं था। इसका असर ये हुआ कि जिस तरह से अमेरिका पाकिस्तान को लेकर खास सोच रखता है ठीक वैसे ही हमारी सोच पाकिस्तान की पिछली सरकारों के बारे में थी। लिहाजा जब अमेरिका को लगा कि पाकिस्तान को ज्यादा से ज्यादा सहयोग करना चाहिए तो उस वक्त हम लोग खुद के अस्तित्व को बचाने की लड़ाई लड़ रहे थे।