Thursday , 16 August 2018

पीसीबी उद्योगों को देगा एनओसी

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) को सिडकुल में शिविर लगाकर वाइट और ग्रीन श्रेणी के उद्योगों को अनापत्ति प्रमाण पत्र देने को कहा है। यह बात उन्होंने मंगलवार को देहरादून में सिडकुल के उद्यमियों के साथ बैठक करते हुए कही। पीसीबी द्वारा जिले के 366 उद्योगों को अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने के लिए 28 मई तक का समय दिया गया था। नियत तिथि तक अनापत्ति प्रमाण पत्र न लेने वाले उद्योगों को बंद करने के निर्देश थे।

मंगलवार को रानीपुर के विधायक आदेश चौहान के नेतृत्व में सिडकुल एंटरप्रेनर वेलफेयर एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने देहरादून जाकर मुख्यमंत्री से मुलाकात की। उद्यमियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि अगर लघु उद्योग बंद हुए तो कम से कम 20 हजार कामगार बेरोजगार हो जाएंगे। साथ ही इसका राज्य के विकास पर विपरीत असर पड़ेगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष हिमेश कपूर ने मुख्यमंत्री को बताया कि जिले में स्थित बड़े उद्योगों का अधिकांश काम लघु उद्योगों के ही पास है। लघु उद्योग बंद हुए तो सारा काम दूसरे राज्यों के उद्योगों के पास चला जाएगा।

उद्यमियों की बात सुनने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने तुरंत पीसीबी के मेंबर सचिव एसपी सुबुद्धि से मामले की जानकारी ली। उद्यमियों ने बताया कि लघु उद्योग प्रदूषण नहीं फैलाते। इस मौके पर सिडकुल एनटरप्रेनर वेलफेयर एसोसिएशन अध्यक्ष हिमेश कपूर, महासचिव विकास गर्ग, राजन चौहान आदि मौजूद रहे।

तीन दिन लगेगा शिविर

मुख्यमंत्री त्रिवेद्र सिंह रावत ने पीसीबी को 18, 19 व 20 मई को सिडकुल में एक शिविर लगाने के आदेश दिए हैं। शिविर में लघु उद्यमियों को लॉगिन व पासवर्ड जारी करने के साथ ही ऑनलाइन अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने को कहा है।