Saturday , 3 February 2018

हाफिज सईद ‘साहब’ के खिलाफ पाकिस्तान में कोई केस नहीं : पाक PM अब्बासी

मंथन न्यूज़ नेटवर्क : आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और मुंबई हमलों के मास्टर माइंड हाफिज सईद के खिलाफ भारत और अमेरिका कड़ा रुख अख्तियार किए हुए हैं. सईद को लेकर अमेरिका आए दिन पाकिस्तान को चेतावनी देता रहता है. अमेरिका ने हाफिज सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी घोषित कर रखा है. लेकिन पाकिस्तानी सरकार इन दबावों के बावजूद हाफिज सईद की प्रशंसा में कसीदे पढ़ रही है. इतना ही नहीं हाफिद सईद एक राजनीतिक संगठन बनाकर पाकिस्तान की राजनीति में आने की तैयारी कर रहा है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा है कि पाकिस्तान में हाफिज सईद के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नहीं है. अब्बासी ने आतंकी सईद के लिए ‘साहब’ का इस्तेमाल करते हुए कहा कि भले ही दुनिया कुछ भी कहे, लेकिन पाकिस्तान में हाफिज सईद साहब के खिलाफ कहीं कोई मामला दर्ज नहीं है.

हाफिज सईद ने 12 जनवरी को पाकिस्तान में इस्लामिक कानून लागू करने की वकालत की थी. सईद ने कहा कि पाकिस्तान सरकार पैगंबर मोहम्मद के संदेश को खत्म करने में जुटी है. इसे रोकने के लिए हमें एकजुट होना पड़ेगा. इस्लामिक कानून की पेरोकारी करने से पाकिस्तान सरकार पर सईद ने एक दबाव बनाने की कोशिश की है.

आतंकी हाफिज सईद पाकिस्तान में चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुका है. चर्चा है कि हाफिज सईद की पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग और परवेज मुशर्रफ की ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग पार्टी के साथ गठबंधन हो सकता है. पिछले दिनों उसने एक बड़ी रैली आयोजित की थी. इस रैली में इजरायल के राजदूत ने भी शिरकत की थी. इस बात पर इजरायल की खूब आलोचना भी हुई थी.

पाकिस्तान में भारत का दुश्मन नंबर 1 माना जाने वाला और जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद के लिए एक ‘स्पेशल सिक्योरिटी टीम’ बनाई है. लश्कर-ए-तैयबा की स्पेशल सिक्योरिटी टीम के एजेंटों को आधुनिक हथियार और गोला-बारूद भी मुहैया कराया गया है. एलईटी के खास प्रशिक्षण प्राप्त एजेंट हाफिज सईद की सुरक्षा में 24 घंटे तैनात रहेंगे. अगर हाफिज लाहौर के बाहर कहीं सफर पर भी जाता है तो लश्कर की यह टीम उनकी सुरक्षा में उसके साथ जाएगी.

बीते साल 23 नवंबर को हाफिज सईद की 297 दिन की नजरबंदी खत्म हो गई थी. पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की एक अदालत ने हाफिज सईद की रिहाई के आदेश दे दिए. रिहाई के आदेश मिलते ही सईद ने कश्मीर अलाप छोड़ते हुए कहा कि वह हर हाल में कश्मीर को आजाद करवा कर रहेगा. आतंकी की रिहाई को भारत के मुंबई हमले को लेकर सईद को न्याय के कटघरे में खड़ा करने के भारत के प्रयासों के लिए झटका है. सईद बीते साल जनवरी से नजरबंद था. जमात-उद-दावा के ट्विटर पर जारी अकाउंट पर सईद ने एक छोटे वीडियो में कहा, ‘कश्मीर की वजह से भारत मेरे पीछे पड़ा हुआ है, लेकिन मेरे खिलाफ भारत की सभी कोशिशें नाकाम हुईं और मैं रिहा हो गया.’ इसके साथ ही उसने कहा कि पाकिस्तान में आजादी की जीत हुई है और कश्मीर हम लेकर रहेंगे.