Tuesday , 6 November 2018

बाबा केदारनाथ के दर्शन के बाद ITBP जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे PM मोदी

मंथन न्यूज़ नेटवर्क प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल दीपावली के दिन केदारनाथ आयेंगे जहां वह उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित बाबा केदार के धाम में पूजा अर्चना के साथ ही केदारपुरी में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की भी समीक्षा करेंगे। प्रधानमंत्री के आगमन के सिलसिले में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने यहां मुख्यमंत्री आवास में उनके दौरे के लिये तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को फूलप्रूफ सुरक्षा इंतजाम करने के निर्देश दिये। सरकारी सूत्रों की माने तो वो हर्षिल में आईटीबीपी के जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे।

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री केदारनाथ सुबह करीब पौने दस बजे केदारनाथ पहुंचेंगे। उन्होंने बताया कि मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद वह केदारपुरी में चल रही पुनर्निर्माण परियोजनाओं का निरीक्षण करेंगे। सिंह ने बताया कि केदारपुरी में चल रही परियोजनाओं की प्रगति से अवगत कराने के लिये मंदिर परिसर में बने अतिथि गृह में उन्हें एक वीडियो भी दिखाया जायेगा। मुख्य सचिव ने बताया कि केदारपुरी पुनर्निर्माण परियोजना कार्यों का प्रधानमंत्री ने पिछले साल अपने भ्रमण के दौरान शिलान्यास किया था।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के केदारनाथ धाम दौरे के सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और वीआईपी हैलीपेड से मन्दिर तक के मार्ग से निरन्तर बर्फ हटाई जा रही है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों हुई बर्फवारी से पूरी केदारपुरी अत्यन्त मनमोहक तथा आकर्षक हो गई है। केदारनाथ से करीब 400 मीटर ऊंची ध्यान गुफा (मेडीटेशन केव) सहित कई नयी चीजें इस बार हिमालयी धाम के दर्शन के लिये आ रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करेंगी। रूद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि केदारनाथ धाम के करीब 400 मीटर ऊंचे स्थान पर बनी ध्यान गुफा प्रधानमंत्री दूर से देखेंगे क्योंकि वहां जाने का उनका कार्यक्रम नहीं है।
उन्होंने बताया कि इस बार कुछ अन्य चीजें जो प्रधानमंत्री का स्वागत करेंगी उनमें मंदाकिनी और सरस्वती नदियों के संगम से लेकर मंदिर तक जाने वाली काफी चौड़ी मुख्य सड़क (मुख्य अप्रोच रोड) और मंदाकिनी के तट पर स्थित रिटेनिंग वॉल प्रमुख हैं। केदारपुरी पुनर्निर्माण प्रधानमंत्री की प्राथमिकता सूची में शामिल है और वह समय—समय पर वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए इन कार्यों की प्रगति की निगरानी करते रहते हैं। प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद से मोदी का यह राज्य का दसवां दौरा है।