Thursday , 18 October 2018

तीन तलाक बिल के खिलाफ सड़क पर मुस्लिम महिलाएं, कहा-

हाथों में तख्तियां लिए महिलाओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। समाहारणालय पहुंचकर महिला प्रतिनिधियों ने तीन तलाक बिल सम्बन्धित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।  जुलूस के कारण करीब चार घंटे तक यातायात व्यवस्था बाधित रही। वहीं सुरक्षा को लेकर भारी संख्या में जुलूस मार्ग में पुलिस बलों की तैनाती की गई थी। जुलूस में शामिल महिलाओं ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ में किसी तरह की छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी। केंद्र सरकार मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से छेड़-छाड़ कर रही है। सरकार को एक देश में दो कानून हजम नहीं हो रही है। जुलूस में शामिल अन्य महिलाओं ने बिल के कुछ बिन्दुओं पर सवाल उठाये और कहा कि कुछ परिस्थितयों में महिला असहाय  हो जाती हैं।जुलूस में शामिल कानून की छात्रा हबीबा बुखारी ने कहा कि तीन तलाक बिल मुस्लिम महिलाओं के लिए जुल्म की तरह है इससे उनके अधिकारों का हनन होगा। हबीबा ने कहा की बिल उनके पर्सनल लॉ में दखल अंदाजी है इसे मुस्लिम महिलायएं बर्दास्त नहीं करेंगी। उन्होंने केंद्र से मांग करते हुए कहा कि इस बिल को सरकार मंजूरी ना दे अपने कानून से वे खुश हैं। महिला तरन्नुम जहां ने बिल को दोषपूर्ण बताया। उन्होंने बिल पास होने पर आंदोलन की चेतावनी देते हुए कहा कि अगर बिल पास होता है तो मुस्लिम महिलाएं इस बिल के खिलाफ तब तक आंदोलन करेंगे जब तक बिल वापस ना हो जाये। सजायाफ्ता पुरुष महिला का भरण पोषण कैसे कर पाएंगे, परित्यक्ता के बच्चों की परवरिश और शिक्षा दीक्षा कैसे होगी? तीन तलाक देने के बाद इसका मान्य नहीं होगा लेकिन तीन तलाक देने वाले पुरुष को सजा होगी आदि बिन्दुओं पर अपनी नराजगी जतायी।