Wednesday , 7 November 2018

जानें, दिवाली पूजन का शुभ समय और पूजा विधि एवं मंत्र

मंथन न्यूज़ नेटवर्क :आज कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि है। कहते हैं परे सभी अमावस्या तिथियों में कार्तिक की अमावस्या  सबसे काली और घनेरी होती है। इस रात माता लक्ष्मी भगवान विष्णु ..के साथ पृथ्वी पर आती हैं और अपने भक्तों की झोलियां भरती हैं। इस दिन माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु के स्वागत में दीपों की माला सजाकर भक्त उनकी पूजा करते हैं। जो लोग तंत्र विद्या से देवी की पूजा करते हैं उन्हें आधी रात के समय निशीथ काल में पूजा करनी चाहिए। गृहस्थों के लिए दीपावली पूजा की विधि जानें।
दीपावली पूजन के लिए जरूरी सामग्री
कलावा, रोली, सिंदूर, एक नारियल, अक्षत, लाल वस्त्र , फूल, पांच सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, घी, कलश, कलश हेतु आम का पल्लव, चौकी, समिधा, हवन कुण्ड, हवन सामग्री, कमल गट्टे, पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद, गंगाजल), फल, बताशे, मिठाईयां, पूजा में बैठने हेतु आसन, हल्दी, अगरबत्ती, कुमकुम, इत्र, दीपक, रूई, आरती की थाली। कुशा, रक्त चंदनद, श्रीखंड चंदन।