हालांकि, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल, अमेरिका में आयोजित होने वाले इस समिट में हिस्सा नहीं लेंगी. चांसलर मर्केल अमेरिका में उत्पन्न कोरोना की स्थिति को देखते हुए दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के नेताओं के साथ बैठक में हिस्सा नहीं लेने का मन बनाया है. बता दें कि जी- 7 शीर्ष सात विकसित अर्थव्यवस्थाओं का समूह है. इनमें यूएस, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और कनाडा शामिल हैं.

अमेरिका में कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए जी-7 समिट को रद्द कर दिया गया था. हालांकि, अब ये समिट कैंप डेविट में 10-12 जून के दौरान आयोजित किया जाएगा. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले हफ्ते कहा था कि विश्व भर के नेताओं के साथ बैठक की मेजबानी करने पर फिर से विचार कर रहा, क्योंकि यह कोरोना महामारी के दौरान सामान्य स्थिति में लौटने का सबसे बेहतर संकेत है.

डोनाल्ड ट्रंप की ओर से जी-7 समिट आयोजित किए जाने की घोषणा के तुरंत बाद मार्केल ने कहा कि उन्होंने अभी तक इस बारे में कोई विचार नहीं किया है कि वो व्यक्तिगत रूप से शामिल होकर समिट में हिस्सा लेंगी या वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए.

चांसलर एंजेला मर्केल के कार्यालय से कहा गया है कि अभी महामारी की स्थिति को देखते हुए वे जाकर समिट में हिस्सा लेने के लिए प्रतिबद्ध नहीं हो सकती हैं. साथ यह भी कहा गया कि चांसलर कोरोना की स्थिति बदलने पर निगरानी जारी रखेंगी.