Friday , 30 November 2018

नेहरू-गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड फर्म है कांग्रेस: अमित शाह

मंथन न्यूज़ नेटवर्क : भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस में परिवारवाद एवं वंशवाद का आरोप लगाते हुए उसे गांधी-नेहरू परिवार की प्राइवेट लिमिटेड फर्म करार दिया है। उन्होंने यह भी दोहराया कि 2019 में केंद्र में मोदी सरकार के फिर सत्तासीन होने पर भाजपा देश से ‘‘घुसपैठियों’’ को निकाल बाहर करेगी। राजस्थान के कोटपूतली शहर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए शाह ने कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘‘यह कांग्रेस पार्टी कोई लोकतांत्रिक पार्टी नहीं है, गांधी-नेहरू परिवार की प्राइवेट लिमिटेड फर्म है।’’

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बीकानेर में कांग्रेस के एक उम्मीदवार ने ‘भारत माता’ का जयकारा कथित तौर पर रुकवाकर यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के जयकारे लगवाए जो ‘‘कांग्रेस के लिए शर्म की बात है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ‘‘जातिवादी’’ है और ‘‘धर्म का जहर’’ फैलाएगी, यह उनका चरित्र है लेकिन भाजपा का मंत्र है “सबका साथ सबका विकास”।

शाह ने करौली, नादोती, कोटपूतली एवं बस्सी में पार्टी उम्मीदवारों के समर्थन में जनसभाएं की। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने गरीबों, दलितों, आदिवासियों, किसानों, गांव, महिलाओं, युवाओं और सेना के लिए 129 जनकल्याणकारी योजनाएं शुरू कीं, वहीं राजस्थान में वसुंधरा राजे सरकार ने भामाशाह, उज्ज्वला, ऊर्जा, आवास, राजश्री सहित अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं के जरिए विकास को गति देने का काम किया। करौली में शाह ने कहा कि राजे सरकार बनने के बाद 2019 में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार वापस आती है तो भाजपा पूरे देश से ‘‘घुसपैठियों’’ को चुन-चुनकर बाहर करेगी। शाह ने कहा कि मोदी ने दुनिया में भारत का गौरव बढ़ाने का काम किया है।

उन्होंने एनआरसी का जिक्र करते कहा कि असम में 40 लाख ‘‘घुसपैठियों’’ को चिन्हित किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘2018 में भाजपा की वसुंधरा सरकार लाओ। 2019 में नरेंद्र मोदी की सरकार वापस लाओ। मैं राजस्थान वालों को वचन देता हूं कि 2019 में सरकार बनने के बाद कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से गुजरात तक एक-एक घुसपैठिये को चुन-चुनकर देश के बाहर भेजने का काम भाजपा सरकार करेगी।’’ केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष शाह ‘सबका साथ सबका विकास’ को लेकर साथ चल रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस पिछडे़ और दलित भाइयों को राजनीति में आगे बढ़ाने के खिलाफ थी। आंबेडकर और विजय सिंह पाथिक के खिलाफ थी। 1957 में कोटपूतली से सबसे पहले गुर्जर राम करण सिंह को विधानसभा जनसंघ ने भेजा। भाजपा सर्वसमाज के लिए काम करती है। सबको आगे लेकर चलती है।’’