Thursday , 18 October 2018

बिहार के उपमुख्यमंत्री ने पेश किया 1.76 लाख करोड का बजट …………………..

मंथन न्यूज़ नेटवर्क : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने विपक्ष के हंगामे के बीच विधानमंडल का 1.76 लाख करोड़ का बजट पेश किया। जीएसटी लागू होने के बाद राज्य का यह पहला बजट है। इस दौरान विपक्ष द्वारा सरकार पर जमकर हमला बोला। इसी हंगामे के चलते कार्रवाई को साढ़े तीन बजे तक स्थगित कर दिया गया है।   उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस दौरान सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यों की प्रशंसा भी की।
शिक्षा मद में 33 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे, जो बजट का सबसे बड़ा भाग है।
17 हजार करोड़ सड़क निर्माण के लिए खर्च किए जाएंगे।
ऊर्जा के लिए 10 हजार 257 करोड़ 66 लाख का बजट पेश किया गया।
राजस्व एवं भूमि सुधार पर 862.21 करोड़ रुपए, नगर विकास पर 4413.58 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।
योजना विकास पर 2841 करोड़, पंचायती राज पर 8694.43 करोड़, समाज कल्याण पर 10 हजार 188 करोड़ रुपए बजट में दिए गए हैं।
राज्य के 16 जिलों में आईटीआई की स्थापना की जाएगी।
नए इंजीनियरिंग कॉलेज खोले जाएंगे। इसके साथ ही सभी मेडिकल कॉलेजों में Eye Bank खोले जाएंगे।
पर्यटन विभाग के लिए 153.45 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया।
स्वास्थ्य विभाग के लिए वर्ष 2018-19 के बजट में 7793.81 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।
बजट पेश करने के दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि खजाना खाली कर बजट पेश किया जा रहा है। साथ ही तेजस्‍वी ने मांग करते हुए कहा कि सुशील मोदी सदन में मुजफरपुर की घटना पर माफी मांगे।