चपरासी का भी ट्रांसफर नहीं कर सकता दिल्ली का सीएम

मंथन न्यूज़ नेटवर्क :अधिकारों के मसले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा, ‘शक्तियों के बंटवारे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला दिल्ली के लोगों के साथ अन्याय है।’ केजरीवाल ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार के कामकाज में केंद्र अड़चनें पैदा कर रहा है। आम आदमी पार्टी (AAP) प्रमुख केजरीवाल ने कहा, ‘फैसला संविधान के खिलाफ है, हम कानूनी उपायों की तलाश करेंगे।’

केजरीवाल ने कहा, ’40 साल से एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) दिल्ली सरकार के पास थी, अब नहीं है। तो अगर कोई भ्रष्टाचार की शिकायत मुख्यमंत्री से करेगा तो उस पर कार्यवाही कैसे होगी?’ उन्होंने कहा, ‘जिस पार्टी के पास 67 सीटें हैं, उसके पास अधिकार नहीं हैं, लेकिन जिस पार्टी ने 3 सीटें जीती हैं, उसके पास वे अधिकार हैं।’ 

दिल्ली के सीएम ने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला, न केवल दिल्ली के लोगों के खिलाफ है बल्कि संविधान के भी खिलाफ है। एक चपरासी को भी दिल्ली का मुख्यमंत्री ट्रांसफर नहीं कर सकता। मुख्यमंत्री के पास अगर एक चपरासी तक को ट्रांसफर करने की ताकत नही है तो मुख्यमंत्री कैसे काम करेगा?’